Mera Priya Neta Best 500+ Words Hindi Nibandh | मेरा प्रिय नेता हिंदी निबंध

“सपना जन्मा और मर गया,

मधु ऋतु में ही बाग़ झर गया,

तिनके टूटे हुए बटोरूँ या नवसृष्टि सजाऊँ मैं?

राह कौन-सी जाऊँ मैं?”

अटल बिहारी वाजपेयी

Priya Neta

        यह बोल भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के हैं। अटल बिहारी वाजपेयी मेरे प्रिय(priya)  नेता(neta) हैं। वे एक महान राजनेता, कवि और लेखक थे। उन्होंने भारत को एक मजबूत और विकसित राष्ट्र बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

         वाजपेयी जी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में हुआ था। उन्होंने कानपुर विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत भारतीय जनसंघ (भाजपा) से की। वे 1957 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए।

         वाजपेयी जी ने अपने राजनीतिक जीवन में कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया। उन्होंने 1996, 1998 और 1999 में तीन बार भारत के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया। उनके नेतृत्व में, भारत ने कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल कीं। उन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच शांति वार्ता शुरू की और कश्मीर समस्या को हल करने के लिए प्रयास किए। उन्होंने भारत को एक परमाणु शक्ति के रूप में भी स्थापित किया।

         वाजपेयी जी एक महान कवि और लेखक भी थे। उन्होंने कई कविताएं और निबंध लिखे। उनकी कविताओं में देशभक्ति और मानवता की भावना झलकती है।

वाजपेयी जी एक प्रेरणादायक व्यक्ति थे। उन्होंने अपने जीवन से हमें यह सिखाया कि कड़ी मेहनत और लगन से कुछ भी हासिल किया जा सकता है। वे एक महान नेता और एक महान इंसान थे।

भारतीय राजनीति के इतिहास में एक ऐसा नाम है जिसने लोगों के दिलों में विशेष स्थान बना लिया है, वह है अटल बिहारी वाजपेयी। मेरे लिए वह नहीं सिर्फ एक नेता है, बल्कि एक आदर्श, एक सूर्यमुखी जिसका प्रकाश हमेशा मेरे जीवन को अंधकार से दूर रखता है।

अटल बिहारी वाजपेयी( Priya Neta) का जीवन और उनकी राजनीतिक यात्रा एक प्रेरणास्त्रोत हैं। उन्होंने अपने जीवन में संतुलन को बनाए रखा, और सदैव नेतृत्व की मिसाल का कायम उदाहरण प्रस्तुत किया। उनकी नेतृत्व में देश ने विकास और प्रगति की ओर अग्रसर होने की दिशा में कदम बढ़ाया।

अटल बिहारी वाजपेयी(priya neta) की विचारधारा और उनके कृतित्व ने मुझे हमेशा प्रेरित किया है। उनका विचारधारा “राष्ट्र प्रथम” हमेशा मुझे सर्वोपरि राष्ट्रभक्ति की भावना से प्रेरित किया है। उनकी स्वभाव में विनम्रता, विचारशीलता और सहानुभूति का मिश्रण मेरे लिए एक आदर्श है।

ने अपने शिक्षा के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। उनके शिक्षा नीति का मैं हमेशा सम्मान करता हूँ। उन्होंने शिक्षा को समर्पित करने के लिए न केवल सरकारी क्षेत्र में बल्कि विशेष रूप से गरीब और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए कई योजनाएं शुरू कीं।

अटल बिहारी वाजपेयी(Priya Neta) जी की अद्वितीय क्षमता थी कि वे हर समस्या को सहज और सहज भाषा में समझाते थे। उनकी अनुभवपूर्ण बातचीत और आदर्श व्यवहार ने उन्हें एक लोकप्रिय नेता बनाया।

अटल बिहारी वाजपेयी(Priya Neta) जी की मृत्यु के बाद भी, उनकी यादें हमें हमेशा प्रेरित करती रहेंगी। उनका संघर्ष, समर्पण और सामर्थ्य हमें सदैव आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा। मैं अपने मन में हमेशा उनके आदर्शों को जीवंत रखूंगा और उनके नेतृत्व में दिखाए गए मार्ग का पालन करता रहूंगा।

समाप्ति में, अटल बिहारी वाजपेयी जी मेरे लिए एक आदर्श नेता हैं जिनकी विचारधारा, कर्म

“टूटे हुए सपनों की कौन सुने सिसकी

अंतर की चीर व्यथा पलकों पर ठिठकी

हार नहीं मानूँगा, रार नहीं ठानूँगा

काल के कपाल पे लिखता मिटाता हूँ

गीत नया गाता हूँ“

अटल बिहारी वाजपेयी(Priya Neta) के जीवनी के बारें में जाने, यहाँ पर।

Leave a Comment