google.com, pub-8725611118255173, DIRECT, f08c47fec0942fa0 Atishyokti Alankar - अतिश्योक्ति अलंकार की परिभाषा, उदाहरण और भेद - 2024

Atishyokti Alankar – अतिश्योक्ति अलंकार की परिभाषा, उदाहरण और भेद

अतिश्योक्ति अलंकार कविता में उन वाक्यांशों को कहते हैं जो व्यक्ति के भावों को अधिकाधिक बढ़ाकर उनका महत्त्व बताते हैं। यह अलंकार भाषा में अतिरेक को दर्शाता है, जिसमें भाव प्रकट करने के लिए अधिक शब्दों का प्रयोग किया जाता है। यह कविता में उत्साह, भावना और भावों को अधिकतम रूप से व्यक्त करने का एक उपाय होता है।

अतिश्योक्ति अलंकार में कवि अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए विविधता और अद्भुतता का सहारा लेता है। इसमें शब्दों की भरपूरता, अधिकता और गहराई होती है जो उस विचार को प्रकट करने में मदद करती है। इस अलंकार में शब्दों का चयन ऐसा होता है जो व्यापक और भावनात्मक होते हैं।

इस अलंकार का उदाहरण देने के लिए एक पंक्ति – “वह देवी सुंदरी है” को लेते हैं। अतिश्योक्ति अलंकार में इस पंक्ति को ऐसे शब्दों से परिपूर्ण किया जा सकता है जो उस महिला की सुंदरता को और भी महत्त्वपूर्ण बना दें, जैसे “वह सुंदरता की अद्भुत उपलब्धि है”।

अतिश्योक्ति अलंकार का प्रयोग करते समय व्यक्ति को अपनी भावनाओं को सही ढंग से व्यक्त करने की कला होती है। इससे कविता में उत्साह, भावना और गहराई आती है जो पाठकों को उसकी महत्त्वपूर्णता को समझने में मदद करती है।

अतिश्योक्ति अलंकार वह अलंकार है जो किसी भाव को अधिकतम रूप से व्यक्त करने के लिए शब्दों का प्रयोग करता है। इसमें भावनाओं को गहराई और अद्भुतता से व्यक्त किया जाता है। यह अलंकार शब्दों के अधिक प्रयोग से भाव को और भी प्रभावशाली बनाता है।

Atishyokti Alankar Ke Udaharan

अतिश्योक्ति अलंकार में शब्दों का प्रयोग भावनाओं को अधिकतम रूप से व्यक्त करने के लिए किया जाता है। यहां कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  1. तारे छूने की आस में जगमगाती रात” – इसमें रात की चमकती सौंदर्य को अद्भुतता से व्यक्त किया गया है।
  2. सूरज ने अपनी किरणों से धरा को चुमा” – इसमें सूरज की किरणें धरा को छूने की अद्भुतता को व्यक्त करती हैं।
  3. बादल घुमाके चले, अब बरसात होगी” – इसमें बादलों की घुमावदार गति से बरसात की संभावना को बढ़ावा दिया गया है।
  4. मेरी आँखों का तारा, मेरी जिंदगी का सहारा” – इसमें आंखों और जिंदगी के बीच एक संबंध को अत्यंत महत्त्वपूर्ण बताया गया है।
  5. उसकी मुस्कान में छुपी खुशबू” – इसमें मुस्कान की अद्भुतता और खुशबू की गहराई को दिखाया गया है।
  6. तुम्हारी बातों में छुपा है गहरा सच” – इसमें बातों के पीछे छिपे सच को उजागर किया गया है।
  7. उसके होंठों पर मुस्कान का बादल छाया हुआ है” – इसमें होंठों की मुस्कान को बादल के साथ तुलना की गई है।
  8. वह बारिश की बूंदों सी मीठी है” – इसमें उस व्यक्ति की मीठी प्रकृति को बारिश की बूंदों से तुलना की गई है।
  9. तेरी मुस्कान का अर्थ समझा करो” – इसमें मुस्कान की महत्त्वपूर्णता को समझाने का आग्रह किया गया है।
  10. वह छोटी सी बातों में खो जाता है” – इसमें व्यक्ति की छोटी सी बातों में गहराई और ध्यान की बात की गई है।

ये उदाहरण अतिश्योक्ति अलंकार के प्रयोग को समझाने के लिए हैं जो शब्दों की अद्भुतता और गहराई को दर्शाते हैं।

जानिए उपमा अलंकार के बारे मे।

  1. जब वह रूप में सजीव होती हैं, तो उसकी सुंदरता सभी को आकर्षित करती है।
  2. स्नेह की अनगिनत कहानियों में छिपा हर राज हर दिल को बांध लेता है।
  3. उसकी मुस्कान में बसा उन्नति का संदेश सबको प्रेरित करता है।
  4. बादलों की घुमावदार यात्रा ने बरसात की संभावना को बढ़ा दिया।
  5. जिन आँखों में छिपा होता है सपनों का संसार, उन्हें देखकर हर कोई प्रेरित होता है।
  6. उसके बोलों में छिपी गहरी सोच ने हमेशा सबको प्रेरित किया है।
  7. जब सूरज ने अपनी किरणों से धरा को चुमा, तो सब कुछ नया हो गया।
  8. उसकी आवाज़ में छिपा अनंत समय का संदेश हर दिल को झकझोर देता है।
  9. वह चंद्रमा जो हर रात की कहानी को साकार करता है।
  10. उसकी हंसी में बसी खुशियों की झलक सभी को मोहित करती है।
  11. जब बारिश की बूंदें गिरती हैं, तो हर दिल को सुकून मिलता है।
  12. उसके बोलों में छिपी सच्चाई ने हमेशा लोगों को प्रेरित किया है।
  13. बेहद रोमांचक दृश्य ने हर किसी को चौंका दिया।
  14. उसकी मुस्कान में छिपी अनगिनत खुशियाँ हर किसी को भावुक कर देती हैं।
  15. वह संगीत जो दिलों को स्पर्श करता है, उसने हमेशा सबको प्रेरित किया है।
  16. जब बजाने वाले धुन की माधुर्यता गूंजती है, तो हर कोई विस्मित हो जाता है।
  17. उसके दिल की धड़कन जो सपनों की ऊँचाइयों में बसी है, ने हमेशा सबको प्रेरित किया है।
  18. बेहद गहरी विचारधारा ने सभी को आदर्शों की ओर प्रेरित किया।
  19. जब संगीत के स्वरों में छिपी भावनाएं सामने आती हैं, तो हर कोई भावुक हो जाता है।
  20. जीवन की अनगिनत कहानियों में छिपा हर एक अनुभव सभी को सिखाता है।

अतिशयोक्ति अलंकार का उपयोग किस प्रकार के काव्यात्मक रचनाओं में होता है?

अतिशयोक्ति अलंकार काव्य और उपन्यास जैसे विभिन्न रचनात्मक क्षेत्रों में प्रयोग होता है।

इस अलंकार के उपयोग से कविता में कैसे भावनाओं को अधिकतम रूप से व्यक्त किया जा सकता है?

अतिशयोक्ति अलंकार शब्दों की अधिकता से भावनाओं को गहराई देता है और उन्हें अधिक प्रभावशाली बनाता है।

क्या कारण है कि अतिशयोक्ति अलंकार को कविता या लेखन में उपयोगी माना जाता है?

अतिशयोक्ति अलंकार शब्दों के अधिक प्रयोग से भावों को मजबूती से प्रकट करता है, इसलिए इसे रचनाओं में महत्त्वपूर्ण माना जाता है।

अतिशयोक्ति अलंकार का उदाहरण देकर, इसके महत्त्व को समझाने का प्रयास कैसे किया जा सकता है?

अतिशयोक्ति अलंकार के उदाहरण द्वारा, शब्दों की अद्भुतता और गहराई को समझाया जा सकता है, जिससे इसका महत्त्व स्पष्ट होता है।

  • Is JEE Advanced Required for NIT?

    Is JEE Advanced Required for NIT?

  • के सातवें अवतार मर्यादापुरुषोत्तम भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था|

    Shree Ram Quotes in Sanskrit

  • Why JEE Advanced is so Tough?

    Why JEE Advanced is so Tough?

  • Shiv Shlok in Sanskrit

    Shiv Shlok in Sanskrit

Leave a Comment