Paryavaran Santulan Hindi Nibandh

          हमारे आस पास का वातावरण ही पर्यावरण कहलाता है। हवा पानी, नदी, पौधे ,पशु-पक्षी, तालाब आदि पर्यावरण के भाग है। इसी पर्यावरण के घटकों से पूरा पर्यावरण तयार होता है। हमें अपने पर्यावरण में अधिक से अधिक पेड़ तथा पौधे लगाने चाहिए। यह हमारे पर्यावरण से कार्बनडाई ऑक्साइड लेकर ऑक्सीजन देता है। इस प्रकार से हम पर्यावरण का संतुलन रख सकते है।

          पर्यावरण का संतुलन करने के लिए हमे सबसे पहले वायुमंडल का प्रदूषण कम करना होगा। पर्यावरण संतुलन का अर्थ है कि हमे पर्यावरण मे उपस्तीत सभी तत्त्वों का अच्छे से उपयोग करना चाहिए। हमे इन तत्वों को व्यर्थ मे इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। अगर हम पर्यावरण का संतुलन रखते है तो प्राकृतिक जीवन भी सुरक्षित रहेगा।

          पर्यावरण हमें बहुत सारे पदार्थ देता है जो हमारे फायदे के लिए हम उसका उपयोग कर सकते है। पर्यावरण का संतुलन पेड़-पौधों पर निर्भर है। आजकल लोग अपने फायदे के लिए पेड़ को काट देते है। इसके कारन पर्यावरण का संतुलन नही रहता। पर्यावरण संतुलन मानव जीवन में एक अहम भूमिका निभाते है अगर पर्यावरण संतुलित नहीं है तो मनुष्य, पशु-पक्षी आदि इस धरती पर नही रह पाएंगे।

          हमे पर्यावरण को स्वच्छ रखने के लिए प्रदूषण कम करना चाहिए। प्लास्टिक के वस्तु हमे कम इस्तेमाल करने चाहिए अगर हम पर्यावरण को संतुलित रखते है तो हम अपने भविष्य को सुरक्षित रख सकते है। इसलिए तो आजकल कहा जा रहा है, एक कदम स्वच्छता कि ओर

यदि पेड़ पौधों को कर दोगे नष्ट, तो सांस लेने मे होगा कष्ट

                                                                                                                                                                                                    –Avadhoot Salunkhe

                                                                                                                                                                                               (St. Josephs, Navi Mumbai)

Leave a Comment